horror story in hindi - खूबसूरत डायन का बदला | horror story

horror story in hindi  kahani खूबसूरत डायन का बदला 

आज के इस पोस्ट में आप पढ़ेंगे horror story in hindi :-


                               खूबसूरत डायन

horror story in hindi
इस हवेली में आना बिलकुल फ्री है 

शाम का समय है सभी लोग खाने की तैयारी कर रहे और कुछ लोग सोने की 
एक हवेली को हम देखते है जिसमे से गाने की आवाज आ रही है

आजा पिया ,आजा पिया समय आया प्यार करने का ,
आजा पिया , साथ बैठे ,साथ समय बिताए आजा पिया , आजा

अगली सुबह सभी काम के लिए व्यस्त है कोई खेती करने के लिए जाता है तो कोई फैक्टरी में काम करने 

मगर दो लड़के को हम देखते है जो योजना बाना रहे है इस घर में आज सभी लोग बाहर जाने वाले है बस एक दादी अम्मा रहेगी जो शायद सही से देख भी नहीं सकती

Also read :   रजनी का भूत

हा ,हा

आज तो बड़ा हाथ मारेंगे

यह दोनो इस कहानी के मुख्य किरदार है आइए थोड़ा इनके बारे में जान ले

एक का नाम है 

अनिल जो की कहने को तो जुवारी है मगर गणित में काफी अच्छा है पर ये पैसों के कर्ज से डूबा हुआ है और जो भी पैसे यह कही से चुराता है तो उसे जुआ में हार जाता है शायद किस्मत इसके साथ नहीं है मेरी तरह

दूसरे का नाम 

आदिल है जो की लड़की के लिए पागल है इसको कोई भाऊ नही देता तो अब ये सोचता है की पैसे हो तो सब कुछ है अच्छी बीवी भी होगी तो ये योजना बनाता है और अनिल को शामिल करता है चोरी करने के लिए क्यूंकि अच्छी लड़की की तरह अच्छी नौकरी नही मिल रही थी इसे 😅

ये दोनो बचपन से अच्छे दोस्त है मगर एक दूसरे से जलते भी है तेरी हाइट अच्छी है तेरा रंग अच्छा है में काला हु यह सब मगर वो सच्चे दोस्त थे

अब हम लोग फिर उस हवेली को देखते है जिसमे से गाने की आवाज आ रही थी

आजा पिया ,आजा पिया समय आया प्यार करने का ,
आजा पिया , साथ बैठे ,साथ समय बिताए आजा पिया , आजा

और ये दोनो उस घर में घुसते है जिसकी योजना इन्होंने बनाई थी ।

यह घुसते है और तिजोरी खोलते है और अनिल चिलाते हुए कहता है भाई अब तो माला माल हो गए हम लोग

अब्बे चुप ,

चुप बुढ़िया है यहां

और दादी अम्मा आ जाती ह

आदिल: फसा दिया न अब मुंह किया देख रहा इससे पहले चिल्ला चिल्ला के गांव के बुला दे उठा पैसे और भाग

वो दोनो एशा ही करते है आदिल को उस तिजोरी में एक किताब भी मिलती है वो उससे भी रख लेता है और गांव के लोग आना शुरू हो गए और वो भागने लगे


गांव के लोग उनका पीछा कर रहे और वो आखरी में उस हवेली के एक खिड़की से घुस जाते है जिस हवेली से हमे गाने की आवाज आ रही थी

गांव के लोग उन्हें जाने से रोकते है मगर वो नही रुकते

दादी अम्मा कहती है डायन ,डायन

मगर वो नहीं सुनते

अब आदिल और अनिल हवेली में है और आदिल की नजर उस किताब पे जाती है जिसपे लिखा था खूबसूरत डायन

आदिल : अच्छा हम भी तो देख जिंदगी में तो कोई खूबसूरत हसीना नही आई इससे देखते है और पढ़ना शुरु करता है

अनिल पैसे गिनने लगता है


आदिल कहानी पढ़ना शुरू करता है

 हरी नगर जो को काफी हरियाली से भरा गांव था और खुशाल था सभी लोगो का एक दूसरे से भाईचारा था गांव के जमींदार का बेटा जिसका नाम रघुवेशर था सभी उनको रघु भी  कहते थे

वो एक बार गांव में टहलने के लिए निकलते है और उनकी नज़र एक लड़की पे जाती है वो उन्हें काफी अच्छी लगती है वो काफी ज्यादा खूबसूरत और सुंदर थी और वो यह बात अपने पिता को बता देता है और उनकी शादी भी हो जाती है

क्यूंकि जमींदार बहुत अमीर थे और उनके पास बहुत जमीन थी

अब कुछ दिन उनकी जिंदगी सही चलती है मगर हम एक रात को देखते है वो लड़की जिससे रघु ने शादी की थी उसका नाम राशिका है 

वो रघु के सोने के बाद आधी रात को घर से बहार निकलती है और एक पेड़ के नीचे जा कर बैठ जाती है और राक्षस के देवता की पूजा करती है और उन्हें खुश करने के लिए वो अपने हाथ काट लेती है और खून काफी समय तक बहता है

ऐसा वो काफी दिन करती है और एक रात रघु उठता है और उनकी पत्नी राशिका कमरे में नही दिखती वो घर के बाहर निकलते है तो 

एक पेड़ के नीचे राक्षस की पूजा करते हुए देखता है और हाथ को काटते हुए वो कुछ नहीं समझ पाता यह किया हो रहा है किसी को पता न चले वो वापस घर में  आ कर सो जाता है और 

सुबह होते ही वो सब कुछ अपनी पत्नी के बारे में पता करता है तो उससे पता चलता है कि उसकी शादी पहले ही हो गई थी मगर कुछ रोग के कारण उसके पति मौत हो गई बहुत जल्दी और राशिका उसे काला जादू आता है

Also read :   खूनी आत्मा का रहस्य

रघु: अरे , अरे यह किया हो गया काला जादू करने वाली से शादी कर ली

अब उसे इस विधि के बारे में पता चलता है काला जादू एक महीने तक  जिसमे राक्षस को खुश करना और

 एक बली देने पर  किसी को जिंदा किया जा सकता है तो वो समझ जाता उसके पति जिंदा हो सकता है और वो यह सब अपने पति के लिए कर रही है 

रघु : अरे कही यह मेरी तो बली नही देने वाली

रघु अपने पिता को  यह बात बताता है यह सब बात जानकर उसे  मारने को कहता है 

रघु और उसके पिता तैयार हो जाते है उसका कतल करने के लिए नही तो वो कब किस की बलि ले ले कुछ नही पता वो दोनो उसे मार देते है मगर वो मरने से पहले कहती है

 में तुम से शादी नही करना चाहती थी तुम्हारे पिता ने मुझ पर ज़ोर दिया और कहा इस गांव से बाहर कर दूंगा मेरे पति की आखरी याद थी वो घर उससे तोड़ना चाह  तुम्हारे पिता ने इसीलिए मेने शादी की मगर अब नही बचोगे  तुम दोनो 

और इससे ज्यादा वो कुछ बोलती की रघु का पिता एक खंजर से  उससे मार देता है 

में वापस जरूर आऊंगी

में वापस जरूर आऊंगी यह उसके अखरी शब्द थे

Also read:   अनपढ़ भाई

रघु के पिता और रघु खुस थे की पीछा छूटा और रघु ने दूसरी शादी कर ली और खुश रहना लगा

कुछ हफ्ते बाद गांव में सभी लोग मरने लगे 

और धीरे धीरे गांव पूरा खाली होने लगा सब की मौत उसी रोग से  हो रही थी 
जिससे राशिका के पति की मौत हुई थी 

जमीदार समझ  जाता है वो आ गई सभी लोगो को वो डायन मार देती है  पूरा गांव वीरान हो जाता है 

 अब वो दूसरे गांव की तरफ जाती है मगर दूसरे गांव में 

एक बाबा थे जो की काफी विध्यवान थे उन्होंने ने उस डायन का पता लग गया और उस जमीदार के हवेली में कैद कर दिया और एक धागे से पूरे घर को बांध दिया और हरी नगर का नाम कृष्ण नगर हो गया और फिर से इस गांव में लोग रहने लगे ।




horror story in hindi
आज ही आए इस हवेली में 

अब आदिल  कहता किया है यह सच थोड़ी है 
मगर हवेली के अंदर से आवाज आती है सच है ये  
अनिल कहता है किया हो रहा है ये

आदिल : अबे ये डायन है मगर कोई नही में इससे प्यार करूंगा क्युकी बाहर तो कोई मुझ से प्यार नही करता

अनिल : पागल हो गया है किया तू

आदिल : देखो राशिका में जानता हु तुम हमे सुन सकती हो में ये जनता हु देखो मेरे दोस्त को मत मारो इससे छोड़ दो तुम मुझे मार दो।

अब राशिका सामने आती है 


राशिका: ठीक है अपने दोस्त को बोल दो जाने के लिए मगर दरवाजे से इससे वो धागे टूट जायेगा और में आजाद हो जाऊंगी

हा, हा

अनिल : नही में नही जाऊंगा

आदिल: अगर दोस्त मानता है तो जा और ये चिट्ठी मेरे मां को दे देना और तुम भी पढ़ना

बहुत जिद्द करने के बाद अनिल मान जाता है   

अनिल : ठीक है , मगर तुम मेरे दोस्त को मत मारना

वो बाहर जाता है और उसमे लिखा था : अगर इस डायन से पीछा छुड़ाना है तो कोई ऐश बच्चा जो 10 - 15 दिन का हो उसका कुछ खून की बूंद ले आ और इसकी मांग भरनी होगी

Also read :   पप्पू के किस्से ( Mera Homework) 

अब हवेली में राशिका कहती है बहुत भोले हो तुम में तो अब आजाद हो गई यह से अब तुम्हे मार दूंगी और तुम्हारे दोस्त को भी देखो थोड़ी देर बाद मार दूंगी

आदिल : मुझे थोड़ी देर बाद मारना क्युकी मुझे अपने मां को याद करना है थोड़ी देर बाद मार लेना मुझे

राशिका : जैसी तुम्हारी अखरी इच्छा

अब समय हो गया और राशिका आदिल।

को हवा में उठती है और तभी अनिल आता है आदिल को खून के बूंद का पैकेट भेकता है 
और आदिल उसके मांग के पास ले जा कर उस पैकेट को फार देता है और खून की बूंदे उसकी मांग भर जाती है और आदिल गिरता है धरम से नीचे

अब अनिल कहता है तुझे ये कैसे पता था कि इसकी मुक्ति एशे होगी 

मेने किताब पढ़ी उसमे विद्वान बाबा ने लिखा था अगर इसकी मुक्ति हो सकती है तो ऐश ही होगी जिसमें पाक खून हो और पाक खून एक बच्चे का ही होता है जिसमे कोई लालच नही , बस प्यार हो

अब वो दोनो पैसे ले कर चले जाते है

Also read :   इच्छा अमर होने की

अगर अपने यहां तक कहानी पढ़ी तो जरूर अपने दोस्त को शेयर करे धन्यवाद ! 😀 यह horror story in hindi ki kahani acchi lagi ya nhi हमे बताए कॉमेंट में ।

टिप्पणियाँ

लोकप्रिय पोस्ट